….अपने मित्रों की सहायता की आवश्यकता पडती है।

अपि संपूर्णता युक्तैः कर्तृव्या सुहृदो बुधैः।
नदीशः परिपूर्णोऽपि चन्द्रोदयमपेक्षते।।

जिस प्रकार समुद्र को अथाह जल राशि के होते हुए भी ज्वार उत्पन्न करने के लिए चन्द्रमा की आवश्यकता पडती है।
उसी तरह सर्वगुण संपन्न विद्वान् व्यक्ति को भी किसी विशेष कार्य को संपन्न करने के लिये अपने मित्रों की सहायता की आवश्यकता पडती है।

The Ocean, which is full to the brim with water, needs the Moon to raise its water level in the sky and to create high tide.
Similarly learned persons, well versed in various disciplines of learning, need the assistance of their friends for accomplishing a particular task.

मित्र बनायें।

शुभ दिन हो।

🌸🌹💐🙏🏼

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *