….अपने मित्रों की सहायता की आवश्यकता पडती है।

अपि संपूर्णता युक्तैः कर्तृव्या सुहृदो बुधैः।
नदीशः परिपूर्णोऽपि चन्द्रोदयमपेक्षते।।

जिस प्रकार समुद्र को अथाह जल राशि के होते हुए भी ज्वार उत्पन्न करने के लिए चन्द्रमा की आवश्यकता पडती है।
उसी तरह सर्वगुण संपन्न विद्वान् व्यक्ति को भी किसी विशेष कार्य को संपन्न करने के लिये अपने मित्रों की सहायता की आवश्यकता पडती है।

The Ocean, which is full to the brim with water, needs the Moon to raise its water level in the sky and to create high tide.
Similarly learned persons, well versed in various disciplines of learning, need the assistance of their friends for accomplishing a particular task.

मित्र बनायें।

शुभ दिन हो।

🌸🌹💐🙏🏼

वो हँसी और बोली- मैं ज़िंदगी हूँ..

Goodwala Morningji

कल एक झलक ज़िंदगी को देखा, वो राहों पे मेरी गुनगुना रही थी,
फिर ढूँढा उसे इधर उधर
वो आँख मिचौली कर मुस्कुरा रही थी,
एक अरसे के बाद आया मुझे क़रार,
वो सहला के मुझे सुला रही थी
हम दोनों क्यूँ ख़फ़ा हैं एक दूसरे से
मैं उसे और वो मुझे समझा रही थी,
मैंने पूछ लिया- क्यों इतना दर्द दिया
कमबख़्त तूने,
वो हँसी और बोली- मैं ज़िंदगी हूँ..
तुझे जीना सिखा रही थी…सुप्रभात

Goodwala Morningji

संतुष्ट जीवन सफल जीवन से सदैव श्रेष्ठ होता है

🐾☀🐾आज का विचार🐾☀🐾

संतुष्ट जीवन
सफल जीवन से
सदैव श्रेष्ठ होता है
क्योंकि
सफलता सदैव
दूसरों के द्वारा आंकलित होती है
जबकि संतुष्टि
स्वयं के मन और मस्तिष्क द्वारा

“🙏🏻सुप्रभात🙏🏻”
“🙏🏻आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो🙏🏻

🌹राम राम जी 🌹

🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻